नकद शतरंज कार्ड जुआ नेटवर्क

Publishing time:2021-10-16 13:19:31

स्टैंड-अलोन बोर्ड गेम डाउनलोड नकद शतरंज कार्ड जुआ नेटवर्क 188bet नेट लॉगिन,casumo निकासी अनुमोदन समय,lovebet 2 फैक्टर ऑथेंटिकेशन रिकवरी,lovebet फिक्स मैच,lovebet रियल मैड्रिड,lovebetा बोनस ओलीश,बैकारेट 28 सेमी फ्राईपैन,बैकारेट कियोशी समीक्षा,एक लवबेट एजेंट बनें,सट्टेबाजी समर्थक,कैसीनो एफ बम,च फुटबॉल,क्रिकेट 2020,क्रिकेट नियम पुस्तक पीडीएफ तमिल . में,कोरिया को निर्यात करता है,फुटबॉल 100 रुपये,फुटबॉल मैदान पर चलता है,जीटीए कैसीनो,बैकारेट कॉकटेल कैसे खेलें,एसएससी 2020 के लिए बेस्ट ऑफ फाइव है,जंगल रम्मी प्रश्न,लाइव कैसीनो केन्या,लॉटरी सीटी,लूडो किंग डाउनलोड,मैदान पर फ़ुटबॉल के लिए ऑड्स,ऑनलाइन गेम ड्रेस अप,ऑनलाइन वास्तविक जुआ साइटें,परिमच विकिपीडिया,पोकर पोकर कार्ड गेम,री स्पोर्ट्स सेंटर,रम्मी १,रम्मीकल्चर हिंदी में,स्लॉट मशीन ज़ीउस,मेरे पास खेल उपकरण की दुकान,एसएस पोकर लॉगिन,द अमेजिंग मनी मशीन,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल सुपरस्टार खिलाड़ी,कौन सा फुटबॉल बाजार अच्छा है,21 बजे pdf,ऑनलाइन पैसे बनाएं gk,क्रिकेट और इंडिया,गोवा राज्याची माहिती,तीन पत्ती युगो,बकरी थी,बैकारेट की सड़क कैसे देखें?,स्टेटस इन हिंदी ऐटिटूड फॉर बॉय, .घट रही है सरकारी साधारण बीमा कंपनियों की वाहन बीमा श्रेणी में हिस्सेदारी

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

घट रही है सरकारी साधारण बीमा कंपनियों की वाहन बीमा श्रेणी में हिस्सेदारी

मुंबई 15 अक्टूबर (भाषा) वाहन बीमा श्रेणी में सुधार के बावजूद सार्वजानिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियाों की निजी कंपनियों के मुकाबले बाजार हिस्सेदारी इस साल अगस्त में घटकर 32.6 प्रतिशत रह गई। इससे पिछले वर्ष के इसी महीने में यह 36.6 प्रतिशत थी।

केयर रेटिंग्स के मासिक आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि निजी कंपनियों की मोटर बीमा श्रेणी में हिस्सेदारी अगस्त में बढ़कर 67.4 प्रतिशत हो गई, जो इससे पिछले वर्ष के इसी महीने में 63.4 प्रतिशत थी।

सार्वजानिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों की हिस्सेदारी में वित्त वर्ष 2017-18 से ही गिरावट जारी है। तब सरकारी कंपनियों की इस श्रेणी में हिस्सेदारी 46.5 प्रतिशत और निजी कंपनियों की हिस्सेदारी 53.5 प्रतिशत थी।

रिपोर्ट के अनुसार वित्त वर्ष 2018-19 में सरकारी साधारण बीमा कंपनियों की इस श्रेणी में हिस्सेदारी घटकर 40.7 प्रतिशत जबकि निजी कंपनियों का हिस्सा बढ़कर 59.3 प्रतिशत हो गया था।

वही वित्त वर्ष में 2019-20 सरकारी कंपनियों का बाजार में हिस्सा लगातार घटते हुए 36.8 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2020-21 में 34.2 प्रतिशत रह गया।

इसी तरह वित्त वर्ष 2017-18 में सार्वजानिक क्षेत्र की कंपनियों की मोटर ओडी (स्वयं की क्षति) बाजार में 37.5 प्रतिशत और निजी कंपनियों की 62.5 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, जो वित्त वर्ष 2018-19 में क्रमश : 32.5 और 67.5 प्रतिशत हो गई। वही वित्त वर्ष 2019-20 में सरकारी कंपनियों की हिस्सेदारी घटकर 28.3 प्रतिशत और निजी क्षेत्र की हिस्सेदारी बढ़कर 71.7 प्रतिशत हो गई।

रिपोर्ट के अनुसार तृतीय पक्ष बीमा (टीपी) में सार्वजानिक क्षेत्र की कंपनियों की बाजार हिस्सेदारी वित्त वर्ष 2017-18 में 52.7 प्रतिशत थी और यह निजी कंपनियों से अधिक थी। लेकिन इसमें भी गिरावट जारी है। वित्त वर्ष 2018-19 में घटकर 46.5 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2019-20 में घटते हुए 42.2 प्रतिशत रह गई।

वहीं निजी कंपनियों की हिस्सेदारी 2018-19 में बढ़कर 53.5 प्रतिशत और 2019-20 में 57.8 प्रतिशत हो गयी।

वित्त वर्ष 2020-21 में सार्वजनिक कंपनियों की हिस्सेदारी 39.7 प्रतिशत और निजी कंपनियों की हिस्सेदारी 60.3 प्रतिशत थी। इस साल अगस्त में सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों की हिस्सेदारी घटकर 38.3 प्रतिशत रही जो एक साल पहले इसी महीने में 42.3 प्रतिशत थी। दूसरी तरफ निजी कंपनियों की हिस्सेदारी इस दौरान क्रमश: 61.7 प्रतिशत और 57.7 प्रतिशत रही।

उद्योग के आंकड़ों के अनुसार मार्च 2019 तक देश में 23.12 करोड़ से अधिक वाहन सड़कों पर चल रहे थे, जिनमें से 57 प्रतिशत वाहनों का बीमा नहीं था। इसमें से सबसे अधिक 60 प्रतिशत दोपहिया वाहनों तथा दस प्रतिशत कारों का बीमा नहीं था।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read
घट रही है सरकारी साधारण बीमा कंपनियों की वाहन बीमा श्रेणी में हिस्सेदारी

यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.सिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

नयी दिल्ली, 15 अक्टूबर (भाषा) दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोई बिजली कटौती नहीं हुई और बिजली की अधिकतम मांग बुधवार के 4,382 मेगावाट से घटकर 4,160 मेगावाट पर आ गयी। केंद्रीय बिजली मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय के अनुसार, 14 अक्टूबर को राष्ट्रीय राजधानी में अधिकतम बिजली की मांग 8.9 करोड़ यूनिट (4,160 मेगावाट) थी, जिसे पूरा किया। दिल्ली में बिजली आपूर्ति के बारे में शुक्रवार को ब्योरा जारी करते हुए कहा गया, ‘‘दिल्ली वितरण कंपनियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, बिजली की कमीब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

इंदौर, 15 अक्टूबर (भाषा) खाद्य तेल बाजार में शुक्रवार को मूंगफली तेल के भाव में 30 रुपये प्रति 10 किलोग्राम की कमी आयी। तिलहनसरसों (निमाड़ी) 7500 से 7600सोयाबीन 3500 से 5000 रुपये प्रति क्विंटल।तेल मूंगफली तेल इंदौर 1450 से 1470,सोयाबीन रिफाइंड इंदौर 1275 से 1280,सोयाबीन साल्वेंट 1205 से 1210,पाम तेल 1280 से 1285 रुपये प्रति 10 किलोग्राम।कपास्या खलीकपास्या खली इंदौर 2025,कपास्या खली देवास 2025, कपास्या खली उज्जैन 2025,कपास्या खली खंडवा 2000,कपास्या खली बुरहानपुर 2000 रुपये प्रति 60 किलोग्राम बोरी।कपास्या खली अकोला 2625 रुपये प्रति क्विंटल। स्थानीय सियागंज किरानायूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


क्रिकेट और मैच
एक खेल अकादमी
तीन पत्ती ड्रीम
लॉटरी 2.7.2021
0.5 के तहत प्यार का मतलब है
स्टेटस ज्ञानी
188bet वोज़
लाइव वीडियो गेम
लॉटरी सुबह 8 बजे
स्पोर्ट्स दा सॉर्टे
कश्मीर खेल के जूते
स्लॉट 4u
मैं पोकर समर्थक हूँ
असली पैसे सट्टेबाजी के खेल
अंक रम्मी डाउनलोड
जैकपॉट स्पोर्टपेसा खेल इस सप्ताह
इलेक्ट्रॉनिक खेल cricket
हिंदी में betway
betway डाउनलोड ऐप
क्रिकेट आभासी पृष्ठभूमि
असली पैसे के लिए तीन पत्ती
डेक्कन रमी
स्पोर्ट्स भर्ती २०२०
ऑनलाइन कैसीनो खेल असलीपैसे
स्लॉट्सलाइट्स.कॉम f9
लॉटरी एक्स फेलिज नविदाद
आओ आओ गीत